My Mom My Sex Goddess

My Mom My Sex Goddess.

Bihar village bans mobile phone use by women

Bihar village bans mobile phone use by women.

Threesome With Ex And Present Wife.

Link

जीजाजी, दीदी और मैं

बेटी को धन की सुख देने के लिए मेरी बाप ने मेरी शादी एक ५० बरस के मर्द के साथ कर दी. मेरे पति की मुझसे उनकी दूसरी शादी थी. पहली की मौत हो चुकी थी. उनका एक लड़की थी जिसकी शादी हो चुकी थी. शादी के पहले मुझे उनके और परिवार के बारे मे अधिक जानकारी नही थी.

सुहाग रात मे मैं उनको देखकर हैरान रह गई. वे देखने मे ही बहुत कमज़ोर दिख रहे थे. मेरी उमर उस समय सिर्फ़ १८ बरस थी. वे आते ही दरवाज़ा बंद कर लिए और मेरी बगल मे बैठ गए. वे मुझे पकड़ कर चूमा लेने लगे. कुछ् इधर उधर के बाते करने के बाद वे मेरी ब्लाउज खोल दिए. मैं ब्रा पहन रखी थी. कुछ देर उपर से ही सहालाने के बाद ब्रा भी खोल दिए. उसके बाद मेरी चुची को चूसने लगे. मुझे अब अच्छा लगने लगा था.

मैने धीरे से अपनी हाथ उनके लंड तरफ़ बढ़ाया. अभी तक कुछ भी नही हुआ था. वे अपने कपड़े खोल दिए और सहालाने के लिए बोलने लगे. मैने भी कुछ देर तक हाथ से सहलाती रही. खड़ा नही होने पर मुख मे खाने के लिए कहने लगे. क़रीब १० मिनट के बाद भी जब नही खड़ा हो पाया तो मैं निराश हो गई. उनके लंड मे नाम मात्र का ही कडापन आया था. अब वे मेरी साडी खोल दिए और अपने मुरझाए हुए लंड से मेरी बुर रगड़ने लगे. मैं तो उनके लंड के तैयार होने का इंतज़ार कर री थी. वे मेरी बुर को अब जीभ से चूसने लगे. अभी भी उनका लंड बहुत नरम था. मैं मन ही मन अपने को कोसती रही और बाप को शराप्ती रही. वे मेरी बुर चूसने मे और मैं उनका लंड चूसने मे मशगुल थी. मुझे अब सह पाना मुश्किल था. जैसा था वैसा ही मैंने उनको चोदने के लिए कहने लगी. वे अपना नरम नरम लंड मेरी गरम गरम बुर मे प्रवेश करने लगे .मगर प्रवेश करने से पहले ही वे गिर गाये.मैं तड़पती रह गई . मैं सोचने लगी कि पहले रात के चलते ऐसे होगया. मैं चुप चाप रह गई. वे भी ऐसे ही कह रहे थे.


दूसरी रात भी मैंने बहुत कोशिश की मगर सब बेकार गया. इसी तरह महीनो बीत गाये. मैं जब भी बिस्तर पर तडपती रही. मेरी बड़ी बहन जीजाजी के साथ तबादला होकर उसी शाहर मे आ गयी. एक दिन मेरी बहन मुझसे मिलने मेरी घर पर आ गई. वे मेरा हाल ख़बर पूछने लगी. मैं चुप हो गई. जब वे ज़िद करने लगी तो मुझे सबकुझ बताना ही पड़ा. वे निराश हो गई और कुछ सोचने लगी. मैंने पूछने लगी तुम कैसी हो. जीजाजी कैसे हैं. वे कह रही थी की तुम्हारे जीजाजी तो बहुत तगडे है. वे मुझे बहुत मज्जे देते हैं. मान ही मान मैं इर्ष्या करने लगी .वे बोलने लगी की मैं कल तक कुछ सोचती हू. कल १२ बजे मेरी घर आजाना. वही पैर बैठ कर बाते करेंगे. मुझे कुछ आशा दिखाई देने लगी.

सुबह होते ही मैं जल्दी जल्दी काम निपटा कर तैयार हो गाई. ठीक १२ बजे मैं दीदी के घर पहौच गई. वे मुझे देख कर मुस्कुराने लगी. वे मुझे अपने बेड रूम मे ले गई .दीदी अपने रूम मे टीवी चला रही थी. वे बोलने लगी की तुम कुछ देर तक वीडियो देखो मैं काम निपटा कर आती हूँ. एक सीडी वही पर रखा हुआ था जिसपर लिखा हुआ था हम दोनो. मैंने उसी सीडी को लगा कर देखने लगी. सीडी देखते ही मैं घबरा गई और दरवाज़े की तरफ़ देखी. दीदी बाथरूम मे थी. मुझे और अधिक देखने का इच्छा जागृत होगई. इस सीडी मे तो जीजाजी और दीदी का रंगीन खेल भरा हुआ था. जीजाजी का लंड तो देखते ही बनता था. लग रहा था की दीदी बहुत रोएगी .मगर वा तो मज़े ले रही थी. मैं सोचने लगी काश मुझे कोई ऐसे चोदने वाला मिलता.

उसी समय दीदी अंदर आगई और कहने लगी तुम को यह कैसा लग रहा है. मैंने सीडी बंद करदी. उसी समय जीजाजी भी आगये. मुझे देखते ही वे मुस्कुरा दिए. दीदी कहने लगी अरे साली तरफ़ भी तो देखो. वह बेचारी शादी होने के बाद भी कुँवारी है. दीदी कहने लगी आज तुम्हारे जीजाजी को तुम्हारे लिए ही मैंने बुलाया है . कल तुमसे मिलने के बाद मैने इनको सब कुछ बता दिया था. दीदी कहने लगी अब तुम लोग अपना काम करो मैं बाहर देखती हूँ. जीजाजी कह रहे थे तुम तो बहुत सेक्सी लगती हो. तुम्हारे स्तन तो काफ़ी बड़े है और वे दीदी के जाने के बाद बिना रूम बंद किए ही मेरी स्तन दबाने लगे.वह कह रहे थे की जब तुम्हारे दीदी ही है तो उससे छिपाना क्या. ऐसे तो साली तो आधी घर वाली होती ही हैं. लेकिन मैं तुम्हारे इच्छा के बिपरीत कुछ नही करूँगा.

मैं चुप चाप थी. मैं सोचने लगी की कही वे चले ना जाए. इससे अच्छा मौक़ा अब नही आने वाला मैं मुसकुराने लगी.जीजाजी समझ गए की मैं सहमत हू. वे अब मेरा ब्लोउज और ब्रा खोल दिए . मेरे चुचि को मसलने लगे . मैं भी अब सहयोग करने लगी थी. जीजाजी के लॅंड का उभार अब पैंट पैर दिखाई देने लगा था. मैंने उनका पैंट पैर हाथ डाला तो वे पैंट खोल दिए. अब उनका लॅंड बाहर निकल चुका था. मैं अपने हाथ से उनके लॅंड को सहालाने लगी. अपने पति का लॅंड से जीजाजी का लॅंड को तुलना कर रही थी. मन ही मन मैं सोचने लगी की मेरी दीदी कितनी लॅकी है की उसे ऐसे लॅंड वाला पति मिला है. कुच्छ देर तक मैं उनके लॅंड को देखती रही. इतने मे जीजा जी कहने लगे कैसा है मेरा हथियार. तुम्हारे पति का कैसा हैं. मैं कहने लगी, जीजाजी उनका तो खडा ही नही होता हैं. मैं महीनो से तरप रही हू. आपका लॅंड तो काफ़ी मोटा और बड़ा है. दीदी को तो बहुत दुखता होगा. उसी समय दीदी आगई. बोलने लगी अरे केवल देखते ही रहोगी.

मैं बोलने लगी दीदी इनका तो बहुत मोटा है, मैं नही सह पाऊँगी. दीदी कहने लगी हा, मोटा तो है लेकिन सहना ही पड़ेगा. पहली बार मुझे भी बहुत दर्द हुआ था. लेकिन अब तो मजा आता है. जीजाजी को दीदी कहने लग बेचारी तुम्हारा घोड़ लॅंड देख कर डर गई है. मेरे बहन को मत रूलाना. बेचारी अभी तक तो कुँवारी जैसे ही तो है.इतन कह कर वा फिर चली गई. जीजाजी अब मेरी साड़ी और पेटी कोट भी खोल दिए .वे मेरे बुर को चटने लगे. मुझे बेड पैर सूता दिए और अपना लॅंड मेरे बुर मे डाल कर चूसने के लिए कहने लगे. वे मेर उपर चढ़े हुये थे . अपनी जीभ से मेरी टिट चाट रहे थे. मुझे काफ़ी मजा आरहा था. मैंने भी दोनो हाथो से उनका सिर पाकर कर दबाने लगा. ज़ोर ज़ोर से लॅंड चूसने के लिए कह रहे थे. उनका लॅंड का स्वाद लेने मे मुझे भी मजा आरहा था.

इतने ही मे अपना पूरा लॅंड मुख मे अंदर तक धकेलने लगे. मुझे तो पहली बार इतना तगड़ा लॅंड मिला था. मैं मज़े से उनका लॅंड चुस रही थी और जीजाजी मेरे बुर चुस रहे थे. उसी समय मुख मे गरम गरम और नमकीन टेस्ट आने लगा. वे और ज़ोर से लॅंड अंदर किए. मुझे तो मजे का स्वाद आरहा था. कुछ देर तक और चूसती रही. वे बाहर लिए और बाथरूम मे चले गए. बाथ रूम से आने के बाद वे फिर मुझसे अपना लॅंड सहलवाने लगे. क़रीब ५ मिनट के बाद वे फिर तैयार होगए. जीजा जी का लॅंड फिर से पहले जैसे ही कठोर और मोटा होचुका था. इस बार वे मुझे पट सूता दिए. मेरे गाड़ मे थोडा थूक लगाए और एक अंगुली घुसा कर बाहर भीतर करने लगे. मैंने कहने लगी जीजाजी इसमे भी करोगे क्या. इसमे तो नही सहा जायगा. आज बुर मे ही कर लो. फिर कभी इसमे. जीजाजी नही माने और कहने लगे गाड़ लिए बिना मैं तुम्हारा बुर नही लूंगा. अगर मेरा शर्त मंज़ूर है तो बोलो नही तो छोड़ देता हूँ. मुझे तो आज चुदाई का भरपूर मजा लेना था. मैं चुप रही. मैं मुसकूरा दी और कहने लगी आप बहुत बदमश हो, आज मैं सब कुछ सहने को तैयार हूँ. जीजाजी

Cousin Love

Sexvideo4me.in

The constant ringing of the phone woke me up. I got up and looked at my table clock it was 8 am and I picked up the phone. Hi cousin!! Anju here and how is my favourite cousin and I immediately recognized the voice of my cousin Anju, Hi Anju! How are you? Where are you? I asked now completely awake and I am in Delhi getting ready for my marriage.

We had still some shopping left so mother said that we can go to Lucknow for shopping and we can meet you guys also she replied. My cock just sprang up in anticipation as my cousin was damn hot and beautiful girl just talking to her gave me a hard on. So when you guys coming? I asked excitedly and we will be there day after tomorrow by 5 pm flight be there dear and she replied. More

Sex With Mother By Blackmailing

I will share my most wonderful moments in life with my mother. My name is Karan and her name is Preeti, 35 years and a sexy lady with a nice figure of 36 C 30 38. She is a housewife and she was really gifted with an inviting and voluptuous body in addition her assets were pink lips, black wide open eyes, black long soft and silky hair a round large deep cut navel. A milky white physique which are able to drive any perfect man crazy sexually and this is the story of three years back when I young then and my mom was 32. Now let’s come to the story. Generally my dad remains out of station because of his work. My father goes to work at about 8 and we goes at 9’o clock in the morning. So one day we went to school but I forgot my project in home. That’s why I had to return back home when I came home and I rang the bell but no sound comes out and then I realize that light was not there and when I knocked the door no one opens. So I open the door with the help of duplicate key which I always used to keep it with me and when I opened the door no one was there in first room. So I went inside and when I reached the last room. I was shocked to see Naveen Bhaiya who lives in our building smooch my mom. She was enjoying too and they two were in deep kiss then I took out my mobile and recorded their video. Then he opened my mom’s saree. She was now in petticoat and blouse. She opened bhaiya’s cloth and began to suck his penis. He had a very long penis. My mom is a very good sucker and after that he opened my mom’s blouse and ohhh. She was wearing black bra then he opened her bra. Wow! What a scene it was and her boobs were like two melons. Her nipple was standing and he was sucking her boobs they did this for 15 minutes then he finally opened her remaining clothes and started fucking her. I was masturbating seeing them and they enjoyed sex for 4 hour up to 1’o clock then he carried my mom to bathroom after 1 hour they came back. They two were naked and my mom’s body was looking More

Mother Punished By Policeman

SEXVIDEO4ME.IN

The train whistled and my mum lifted me and ran towards the door. We made it just in time before the train could gain speed. My mum sighed in relief and started searching for our seats. We found it without much ado and kicked the luggage under the seats. My mum had taken too much trouble for this; she hadn’t packed her bags last night building up a lot of shouts and anxiousness this morning. MUM: ‘’beta come and sit on my lap.’’ I had been looking out through the window at the racing meadows and grazing lands. As my mum said I ran to her and sat on her lap and she planted a kiss on my cheek. ME:”Mamma, when are we going to reach there?” MUM:”In three days beta’’ ME:”Oh’’ We had boarded the Kerala express and were going to our native place. Soon it turned dark as evening swept in. Yet nobody was there in the compartment except us. I leapt out of my mother’s lap and sat on the opposite seat. And hereby my habit of fooling around started. I jumped from seat to seat and climbed the upper berth which gave me immense pleasure. My mum scolded me and I as usual didn’t listen. Nothing used to scare me when I was of that age as my mum still recalls. The only thing she used to scare me with was the police. She used to show me the policemen in TV with guns and I used to obey every command. But now the TV was far away and I had no reason to worry. But that night at a station our train stopped and a well built police man came in our compartment. He was grim looking at first so I swiftly climbed up. But to my utter surprise he smiled. Can they smile? , I wondered. The policeman talked with my mother the evening and they continued their boring talk occasionally laughing. When my mother told him about my fear for the police he immediately pulled out his gun and allowed me to touch it. I was enthralled and lost my fear for the police too. MUM:”You shouldn’t have done that” She said smiling and the guy smiled back. They continued talking and I fell asleep. Next day the police guy changed into his clothes and was looking neat. I played with him whole day and my mother remained staring at us with a lopsided grin on her face. My dad was a businessman and never played with me so much. It was mesmerizing; the feeling that man had created in me. 2 days were left and now we were supposed to reach Kochi by Monday morning as my mum said. More

Previous Older Entries

Follow

Get every new post delivered to your Inbox.

%d bloggers like this: